संदेश

December 13, 2008 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भूतकाल को मान

कुछ ऐसे मानते है की भूतकाल बेकार है । और गया वो गया ! भविष्य से चकाचौध हो जाते है और अपने पीत्रुओं जिस पर खड़े है उसे कुछ गिनाते नही यह ग़लत है !!कारण यह हैकि भूतकाल ही ऐसा है जो प्रतिक्षण बढ़ता ही रहता है ! ये आप पढ़ रहे हो वो ही भूतकाल बन गया !! और भविष्यकाल प्रतिक्षण मरता रहता है !!अर्थात भूतकाल में दिन प्रतिदिन वृध्धि हो रही है ! और उसी पर हम जी रहे है ! इसलिए प्रतिक्षण नाशवंत भविष्य से आश्चर्य में मत गिरो । अपने पित्रुओ की गत स्वजनोकी खुबिओको पहचानो जो तुम्हारेमे युही सहज छुपी हुई है !! जिसके सहज उपयोगसे जीवन को खूब सरल बनाया जा सकता है !