संदेश

September 7, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

तो मै कहता हु ईश्वर !!

चित्र
मजा की बात तो देखो !!भूतकाल बढ़ता ही जा रहा है !! और हा भविष्य काल आता ही रहता है !! न जाने भविष्य काल का आता रहता प्रवाह रुक न जाय !! या फिर भूतकाल का बर्तन पूरा भर जायेगा !! अरे मै तो बैठा हु वो तो वर्त्तमान है !! बस इसी क्षण !! There fore at least love your life !! This is a great gift !! और ये भी याद रख ये बहती है धारा भविष्य काल की ये बहती ही रहे !! जो भी चलाता है खुदा या गॉड !! It is a great !! कोई मुझे पूछे के धर्म बड़ा है या ईश्वर !! तो मै कहता हु ईश्वर !!
ये महा प्रवाह कहा रुकता है !!