संदेश

June 9, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कर्म फल !!

चित्र
कर्मोके फल होते ही है !
सब अपने नहीं ! हो भी !! ना भी हो !!!
थोड़े भी !!!!
लेकिन होते जरुर है !!!!!
यं यं चिन्तयते कामं तं तं प्राप्नोति निश्चितं !!!