आयुर्वेद ज्योतिष

नीच के सूर्य की महादशा या अन्तर्दशा में ज्वर ,कुष्ठ,शिरोरोग,होता है। ।ब्रुहद निघण्टुरत्नाकर 
गर्भ स्थापन 
गर्भदम  वटशृङ्गान्तु  …… पुष्येण  समाहृतम। । 
 वट श्रृंग याने वट  के फल शुक्ल पक्ष में पुष्य नक्षत्र में लेकर पिने से गर्भ स्थापन शक्ति बढाती है !!
....   में 
शनि-हर्शल। राहु केतु मंगल नेप्ट्यून  रोग कष्ट करता करता है !!
हर्शल से समाज में न आये ऐसे रोग होते है !!
मंगल सारंगढ़ हर्निया शनि वधारवाल राहु केतु मंगल भगन्दर !!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ज्ञान ज्योति में राम रे