होते है प्रभु के काम हमेशा !!

ये मै  लिख रहा हु   आप पढ़ रहे  है !! फिरभी देखो दुनिया चल रही है !! तारे  ग्रह  नक्षत्र  !! अरे अत्यंत सूक्ष्म अणु  में इलेक्ट्रोन  घूम रहे है !! चल रहे  है सब !! कोई जबरदस्त काम चल रहा है  !! हम थे  न थे  होंगे न होंगे  लेकिन ये चल रहा काम  कोई कर रहा है !! ये महान कर्म सागर में हमारा ये छोटासा काम जैसे समंदर में  कागज की नैया !! तैरती जाती  है  !! बस यही सत्य है !! हमारे सामने !! इसका अविष्कार हो जाये यही तो अंतर की पुकार है !! एक बार समज गए फिर निश्चिन्त है !! चलो जुड़ जाय  !! प्रभु के काम !!
होते है प्रभु के काम हमेशा !!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ज्ञान ज्योति में राम रे