निद्रा जीवन लब धब !!


पंडित जगन्नाथजी के खबर अंतर पूछने गया था !! उन्हें भूल जाने की बिमारी हो गई थी।उम्र के हिसाब से भी यह असर थी। वो कहते थे जैसे कोई मूवी की क्लिप चालू होती है और फिर कुछ नहीं !एक गेप आ जाती है !!फिर शरू होती है फिर बंद !!इसी बात को लेकर परेशां थे वो !!
बस इस बात को जीवन में भी ले सकते है हम सब । जैसे जीवन और निद्रा !! हम जीवन की  पर से देखते है निद्रा को !! निद्रा कीओर से देखो ! निद्रा पमें भी जीवन की क्लिप्स आती है न?
इस दुनिया को भूलने के लिए तो तैयार ही हो !! अरे भाई अब तो नींद आ रही है !!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ज्ञान ज्योति में राम रे

अपने अपने हिसाब से