इस लिए मन की दवाईया बिकती है !!

ये कीर्ति और ये लख्मी !! बड़ी उस्ताद है !! आकर्षण तो  देखो !! जलाती है और दौड़ में डाल देती है !! अरे अभिमान करने में मज़ा आता है !! माया तूने बड़ा फसाया !!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ज्ञान ज्योति में राम रे